Wednesday, September 10, 2014

चम्पक वन में ************दो सखियाँ


                  

संस्मरण कविता
          



  चम्पक-वन में बैठ सखी संग ,
             कहती सुनती कुछ मन की जीवन की 
   कुछ अपनों की कुछ सपनों की 
                 कुछ टूटे सपनों की कुछ छूटे अपनों की 


     मन के पन्ने खोल रही हैं 
     एक-दूजे को तोल  रही हैं
 कहती सुनती ,कुछ मन की जीवन की    
  कुछ सासू की -कुछ ननदी की               
     कुछ साजन की-कुछ लालन की 
             
    भर आँचल में  झर- झर झरते
स्मृतियों के चम्पक-सुमन 
         कहती -सुनती कुछ मन की जीवन की 
 कुछ द्वंदों की -अवसादों की
कुछ तीरों की तलवारों की
                                   कब लगी ह्रदय को ठेस                                                      
                                                          पीड़ा अकथ ,भूल मुस्काने   की    
                                                               कहती सुनती कुछ मन की जीवन की
                                                          बाहें थामे एक-दूजे की  
                                                         आपस में ये पूछ रही हैं
                                                                                     किसकी कैसे बीत रही है                              
                                                           हार रही या जीत रही हैं
                                                           हारी फिर भी जीत रही हैं
                                                              या, जीत कर भी हार रही हैं
                                                           जीवन की तो रीत यही है
                                                           सखियों की तो प्रीत यही है
   

                                     धन्यवाद..........अदितिपूनम        

                                              
               
                                                                                                                                                                                                                                                                 
                                                                         











                                                                  
                          

                                                                        


                 

Monday, March 17, 2014

होरी...होरी********






अरी ओ री सखी
घोलो केसरिया रंग
बिरज चलें होली खेलन
अरी ओ री सखी
जिया मैं भर लो उमंग
बिरज  चलें होली खेलन

ढोलक ले लो मंजीरा ले लो
और ले लो तुम चंग
गोप ग्वाल सखियाँ
सब नाचे बाजे जब मिरदंग
मुरली बजावत कान्हा नाचे
रानी राधिका संग
           
                             


केसर को तो तिलक लगाओ
वाको पटका डारो रंग
श्याम पिया मोहे एसो
 रंग दे,चढ़े न दूजो रंग
 बिन ओढ़े मे घर न जाऊं
  रंग दे चुनरिया सुरंग
  अरी ओ री सखी
 घोलो कनक-कलश में भंग
  बिरज में धूम मचाएं सब संग
 चलें होली खेलन********
                             
                              रंगोत्सव की अनेकानेक शुभ कामनाये ....सभी मित्रों को
                                              अदिति पूनम

Saturday, March 8, 2014

संवरना चाहती हूँ



                          संवरना चाहती हूँ 

      
                                                             संवारती आई हूँ सदियों से
                                                          घर को ,अपनों को सुघड़ता से
                                                            निहारती आई हूँ दर्पण में
                                                               अपने आपको सदियों से
                                                बन निर्झरिणी ,ममता-स्नेह-समर्पण की
                                                    निभा कर्तव्य अपने घर के -बाहर के
                                                            छूकर उत्तुंग-हिम-शिखर
                                                       असीम अन्तरिक्ष  में कर अपने
                                                             अस्तित्व के हस्ताक्षर
                                                     हर चुनोती स्वीकार करना चाहती हूँ
Displaying photo 5.JPG
                                                             सुसंस्कारों का सृजन करती
                                                          चूंकि सृजन के सही अर्थ हूँ जानती
                                                              काटकर सलाखें उपेक्षाओं की
                                                               और बेड़ियाँ विषमताओं की
                                                          स्वछंद नहीं स्वतंत्रता चाहती हूँ
                                                                 निहारती आई हूँ सदियों से ,
                                                                जिस दर्पण में अपने आपको
                                                      अब अपने उस दर्पण को बदलना चाहती हूँ
                                                 बिखरी अलकों को अपनी अब सुलझाना चाहती हूँ
                                                              अब में भी संवरना चाहती हूँ ***************
                                                                                                               
                    अंतर्राष्ट्रीय महिला-दिवस की शुभ कामनाओं के साथ ..............
                                                           
                                                              अदितिपूनम *************

                                                             
                                   

                                                       
 

                                             
 
       






  

                   




















   
                    
                        
                        
                 
                     
                              
           
                 















                                                                                            
                                                                                           
                                                                                           
                                                                                               
                                                                                         
                                                                                             
                                                                                         
                                                                                              
                                                                                                
                                                                                
                                                                                            
                                                                     
  






           

       

          

Monday, July 15, 2013

धरती

कितने सुख देती है धरती    
मानवता को विकसित करने    
कितने दुःख सहती है धरती 
पिघलने से हिमगिरी के,
सागर सा भर आता है मन .
अनावृष्टि -सूखा -अकाल को
देख मन भूमि का होता है मरुथल
अति -वृष्टि और चक्र वात  के व्यूह -
में धरती रोंती है ,कितने सुख देती है
कितने दुःख सहती है धरती
जब -जब कटते है जंगल
हृदय में होती है हलचल
बढ़ जाती हृदय की धड़कन
जब होता भूमि में कम्पन
पिघलने से हिमगिरी के
सागर सा भर आता है मन
अनावृष्टि-सूखा-अकाल को ,
देख मन,भूमि का होता है मरुथल
अति-वृष्टि और चक्रवात के ,
व्यूह में धरती  रोती  है .
कितने सुख देती है धरती ,
 कितने दुःख सहती है ..............अदितिपूनम.       
                                                   

                                                                        

Friday, March 8, 2013

स्त्री

करूणा और प्रेम के इन्द्रधनुषी रंगों को ,
जीवन के उतार-चढाव के ताने-बाने में ,
        चतुर बुनकर सी 
               धागा-दर-धागा 
                    रिश्तों को बुनती स्त्री**************

                             
                                          चुन-चुन कंटकों से ,
                                       नेह के बिखरे तिनके ,
                                       समेट  नीड  बनाती 
                                बिछोना वात्सल्य का बिछाती स्त्री************

जीवन सरिता में बहती 
नोका की ,पतवार सी ,
प्रवाह-पथ की लोह-चट्टानों को 
आत्मविश्वास और दृढ़ता  से  मोम  करती स्त्री************** .
                                        
                                               प्रकृति की प्रतिश्रुति सी
 ,                                             निस्तब्ध पतझड़ मे
                                              बसंत की आहट सुन        
                                                 ठूंठों से झांकती          
                                                 हरियाली सी स्त्री...............
                                                           

                                                                            महिला-दिवस की शुभ-कामनाओं सहित 
                                     





                                           ,
                                   
         
       
  
.




Sunday, September 19, 2010

ज्ञान दे !


हे, विधाता ज्ञानदे मुझको   
कौन धागे से बीनू चदरिया हरी  भरी कुसुमित और जग  मुस्कुराये
   कौन राग छेड़ूँ  कि    जग हरित माधुर्य से भर    जाये  
  कौन बीज बोउं भूमि पर विस्तार हरा अनंत हो जाये
  कौन गीत गाऊँ कि झर  झर निर्झर बहे   
     हे,विधाता! ज्ञान दे मुझको कि
 इस धरा का वैभव हरा अमिट सदा अनंत रहे !