Saturday, March 8, 2014

संवरना चाहती हूँ



                          संवरना चाहती हूँ 

      
                                                             संवारती आई हूँ सदियों से
                                                          घर को ,अपनों को सुघड़ता से
                                                            निहारती आई हूँ दर्पण में
                                                               अपने आपको सदियों से
                                                बन निर्झरिणी ,ममता-स्नेह-समर्पण की
                                                    निभा कर्तव्य अपने घर के -बाहर के
                                                            छूकर उत्तुंग-हिम-शिखर
                                                       असीम अन्तरिक्ष  में कर अपने
                                                             अस्तित्व के हस्ताक्षर
                                                     हर चुनोती स्वीकार करना चाहती हूँ
Displaying photo 5.JPG
                                                             सुसंस्कारों का सृजन करती
                                                          चूंकि सृजन के सही अर्थ हूँ जानती
                                                              काटकर सलाखें उपेक्षाओं की
                                                               और बेड़ियाँ विषमताओं की
                                                          स्वछंद नहीं स्वतंत्रता चाहती हूँ
                                                                 निहारती आई हूँ सदियों से ,
                                                                जिस दर्पण में अपने आपको
                                                      अब अपने उस दर्पण को बदलना चाहती हूँ
                                                 बिखरी अलकों को अपनी अब सुलझाना चाहती हूँ
                                                              अब में भी संवरना चाहती हूँ ***************
                                                                                                               
                    अंतर्राष्ट्रीय महिला-दिवस की शुभ कामनाओं के साथ ..............
                                                           
                                                              अदितिपूनम *************

                                                             
                                   

                                                       
 

                                             
 
       






  

                   




















   
                    
                        
                        
                 
                     
                              
           
                 















                                                                                            
                                                                                           
                                                                                           
                                                                                               
                                                                                         
                                                                                             
                                                                                         
                                                                                              
                                                                                                
                                                                                
                                                                                            
                                                                     
  






           

       

          

27 comments:

  1. सुंदर भाव...आपको भी बहुत बहुत शुभकामनायें..

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद...........आभार अनिता जी ........

      Delete
  2. बहुत सुंदर और प्यारे से भाव.......... बेहतरीन
    !!

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद...........आभार मुकेश जी .......

      Delete
  3. Replies
    1. धन्यवाद.....आभार आपका.........

      Delete
  4. खूबसूरत भाव... सुंदर शब्दों से पिरोई गयी मनःस्थिति... अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस की शुभकामनाएँ …

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद.......आभार आपका.........

      Delete
  5. सुन्दर भाव....

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद............आभार आपका.......

      Delete
  6. बहुत पसंद आई रचना. बदलते युग में आगे के दिनों के आसान होने की उम्मीद है. जो परिवर्तन हो रहा है उससे आशा तो जरूर बंधी है.

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद......आभार....
      महोदय...ब्लॉग पर आने के लिए...

      Delete
  7. बहुत ही खुबसूरत भाव के साथ सुन्दर प्रस्तुति, आभार।

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद.......आभार महोदय....

      Delete
  8. अब अपने उस दर्पण को बदलना चाहती हूँ
    बिखरी अलकों को अपनी अब सुलझाना चाहती हूँ
    अब में भी संवरना चाहती हूँ

    सुंदरम मनोहरम !बढ़िया भाव प्रबंध और अर्थ सार ***************

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत-२ धन्यवाद महोदय.....

      Delete
  9. दर्पण को अब बदलने ही चाहिए... बहुत सुंदर अभिव्यक्ति ...

    ReplyDelete
  10. सुसंस्कारों का सृजन करती
    चूंकि सृजन के सही अर्थ हूँ जानती
    काटकर सलाखें उपेक्षाओं की
    और बेड़ियाँ विषमताओं की
    स्वछंदता नहीं स्वतंत्रता चाहती हूँ
    निहारती आई हूँ सदियों से ,
    जिस दर्पण में अपने आपको
    अब अपने उस दर्पण को बदलना चाहती हूँ
    सुन्दर काव्य, रूपकत्व का ज़वाब नहीं शानदार अप्रतिम रचना

    (स्वच्छंद )

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार...धन्यवाद आपका .....सही कर दिया है ..स्वछन्द ...मार्गदर्शन की हमेशा आवश्यकता होगी

      Delete
  11. आपकी टिप्पणियाँ हमारी उत्प्रेरक धरोहर बनती हैं।

    ReplyDelete
  12. बेहद खूबसूरत अभिव्यक्ति है बधाई !!

    ReplyDelete
  13. सुसंस्कारों का सृजन करती
    चूंकि सृजन के सही अर्थ हूँ जानती
    काटकर सलाखें उपेक्षाओं की
    और बेड़ियाँ विषमताओं की
    स्वछंदता नहीं स्वतंत्रता चाहती हूँ
    निहारती आई हूँ सदियों से ,
    जिस दर्पण में अपने आपको
    अब अपने उस दर्पण को बदलना चाहती हूँ
    सशक्‍त भाव लिये .... उत्‍कृष्‍ट अभिव्‍यक्ति

    ReplyDelete
  14. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल मंगलवार (18-03-2014) को "होली के रंग चर्चा के संग" (चर्चा मंच-1555) पर भी होगी!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    रंगों के पर्व होली की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ
    कामना करता हूँ कि हमेशा हमारे देश में
    परस्पर प्रेम और सौहार्द्र बना रहे।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद ,,,आभार महोदय मुझे चर्चा में बनाए रखने के लिए....
      होली की हार्दिक शुभ कामनाएं आपको भी....

      Delete
  15. सादर प्रणाम |
    बदल डालिए सदियो पुराने दर्पण को
    होली की हार्दिक शुभकामनाये|

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद ,अजय जी...ब्लॉग पर आने का शुक्रिया

      Delete
  16. वाह...बहुत सुन्दर और सामयिक पोस्ट...
    नयी पोस्ट@चुनाव का मौसम

    ReplyDelete