Wednesday, September 10, 2014

चम्पक वन में ************दो सखियाँ


                  

संस्मरण कविता
          



  चम्पक-वन में बैठ सखी संग ,
             कहती सुनती कुछ मन की जीवन की 
   कुछ अपनों की कुछ सपनों की 
                 कुछ टूटे सपनों की कुछ छूटे अपनों की 


     मन के पन्ने खोल रही हैं 
     एक-दूजे को तोल  रही हैं
 कहती सुनती ,कुछ मन की जीवन की    
  कुछ सासू की -कुछ ननदी की               
     कुछ साजन की-कुछ लालन की 
             
    भर आँचल में  झर- झर झरते
स्मृतियों के चम्पक-सुमन 
         कहती -सुनती कुछ मन की जीवन की 
 कुछ द्वंदों की -अवसादों की
कुछ तीरों की तलवारों की
                                   कब लगी ह्रदय को ठेस                                                      
                                                          पीड़ा अकथ ,भूल मुस्काने   की    
                                                               कहती सुनती कुछ मन की जीवन की
                                                          बाहें थामे एक-दूजे की  
                                                         आपस में ये पूछ रही हैं
                                                                                     किसकी कैसे बीत रही है                              
                                                           हार रही या जीत रही हैं
                                                           हारी फिर भी जीत रही हैं
                                                              या, जीत कर भी हार रही हैं
                                                           जीवन की तो रीत यही है
                                                           सखियों की तो प्रीत यही है
   

                                     धन्यवाद..........अदितिपूनम        

                                              
               
                                                                                                                                                                                                                                                                 
                                                                         











                                                                  
                          

                                                                        


                 

30 comments:

  1. बहुत सुंदर रचना

    ReplyDelete
  2. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन एक रोटी की कहानी - ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद ,ब्लॉग बुलेटिन में मेरी रचना साझा करने के लिए ह्रदय से आभार ....धन्यवाद ...

      Delete
  3. बहुत सुन्दर रचना ...!!साथ बीते हुए पलों को आपने सदा के लिए जीवित कर दिया ...!!
    याद आ गई वो चम्पक बन में बीती हुई शाम ....!!
    सुखद सुरभिमय अनुभूति हो रही है ....!!
    साभार ....

    ReplyDelete
  4. भर आँचल में झर- झर झरते
    स्मृतियों के चम्पक-सुमन....

    ReplyDelete
  5. कहती -सुनती कुछ मन की जीवन की
    कुछ द्वंदों की -अवसादों की
    कुछ तीरों की तलवारों की
    कब लगी ह्रदय को ठेस
    पीड़ा अकथ ,भूल मुस्काने की
    अनुपम भाव संयोजन .... बेहतरीन

    ReplyDelete
  6. kahti sunati kuchh man ki
    jeevan ki .kya baat hai bahut sundar ..

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर भावनात्मक अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  8. स्मृतियों का स्फुटन सुन्दर बन पड़ा है ..
    सुन्दर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  9. भर आँचल में झर- झर झरते
    स्मृतियों के चम्पक-सुमन....

    सुन्दर रचना ...

    ReplyDelete
  10. अपने भीतर पल रहे मर्म को बताने,सुनने की कवायत
    जीवन और नारी मन के
    नये संदर्भ की भावपूर्ण रचना
    बधाई

    ReplyDelete
  11. आपकी यह उत्कृष्ट प्रस्तुति कल शुक्रवार (24-05-2013) को "ब्लॉग प्रसारण-5" पर लिंक की गयी है. कृपया पधारे. वहाँ आपका स्वागत है.

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद ब्रिजेश जी ,ब्लॉग प्रसारण 5 पर मुझे लिंक करने के लिए
      आभार ....धन्यवाद...

      Delete
  12. सुन्दर काव्य सृजन.

    ReplyDelete
  13. बहुत सुंदर रचना

    ReplyDelete
  14. आप सभी का ह्रदय से आभार धन्यवाद....

    ReplyDelete
  15. कुछ सासू की -कुछ ननदी की
    कुछ साजन की-कुछ लालन की

    प्रभावी कलम को बधाई !

    ReplyDelete
  16. बेहतरीन व सुन्दर रचना
    शुभ कामनायें...

    ReplyDelete
  17. भाव और जीवन का राग अनुराग लिए है यह रचना अपनों के बीच .

    ReplyDelete
  18. अपना मन बँटा सकें जिससे ऐसी सखी सदा बनी रहे -बहुत मनोरम रचना !

    ReplyDelete
  19. स्मृतियों से सुंदर काव्य सृजन हुआ. सखियों की हंसी ठिठोली मन के भावों का उतार चढाव. बहुत सुंदर गीत.

    ReplyDelete
  20. सुन्दर मनोहारी रचना …।

    ReplyDelete
  21. wah!!! padh kar aanand aa gaya ..aisa laga jaise mere aur meri saheli ke baare mei hi likh diya aapne ... aisi sakhi ka jeevan mei hona kisi vardaan se kam nahi hota .bahut hi khoobsurat rachna ekdum aapki tarah :-)

    मेरी नयी रचना Os ki boond: लव लैटर ...

    ReplyDelete
  22. हाँ..
    जीवन तो यही है ..
    शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  23. सखियों की तो प्रीत यही है...

    ReplyDelete
  24. किस पर टीका करूं यहां सब एक दूजे से उत्तम है
    हिन्दी लिखना कम आता मुझे बुद्धी भी कुछ मध्यम है

    ReplyDelete